Chairman Message

 

                                                                                                                               दिनांक: 10.10.2018

मेरे प्रिय साथियो,

आज से पावन पर्वों की श्रृंखला शुरू हो गयी है। आदि शक्ति की प्रतीक माँ दुर्गा को समर्पित नवरात्रों  की मंगल बेला में चहुं ओर उल्लास एवं उत्साह का वातावरण व्याप्त है। मैं आप सभी को हार्दिक शुभकामनायें देता हुआ कामना करता हूँ कि आप सभी के मन एवं घर आंगन, उमंगों और खुशियों से परिपूर्ण हों।

प्रथम अर्धवार्षिकी के आंकड़ों को देखें तो हमारी जमा राशिया रू. 13556.46 से बढ़कर रू. 14141.67 करोड़, ऋण                                                      राशियाँ रू. 8716.49 से बढ़कर रू. 9171.42 करोड़ के साथ कुल व्यवसाय रू. 22272.95 से बढ़कर 23313.09 करोड़ हो गया है। हालांकि हम लक्ष्यों के सापेक्ष में पीछे हैं, परन्तु सभी मानदण्डों में सन्तोषजनक वृद्धि दर्ज की गयी है। अब हमें चालू अर्द्धवर्ष में और अधिक लगन से जुटते हुए अपनी इस कमी को पूरा कर मार्च 2019 के लक्ष्यों को पूरा करते हुए अच्छे अन्तर से पार भी करना है। हालांकि हमने अनर्जक आस्तियों के स्तर में कमी के लक्ष्य को प्राप्त ही नहीं किया बल्कि 6.87 करोड़ के अन्तर से पार भी किया है। आप एनपीए वसूली में इसी जज्बे को बनाये रखेंगे और एनपीए रूपी बुराई पर हम विजयी होंगे ऐसा मेरा पक्का विश्वास है।

साथियो, हमारे व्यवसाय का आधार हमारा ग्राहक वर्ग है और ग्राहक को सन्तुष्ट व प्रसन्न करने का अचूक साधन है- श्रेष्ठ ग्राहक सेवा। जब ग्राहक परिसर में दाखिल होता है उसका मुस्कान से स्वागत करना, उसे इज्जत देना, उसकी ओर मुखातिब होकर उसकी बात सुनना, तत्परता से उसका कार्य निपटाकर उसे सहज वातावरण का अनुभव कराना, उसे त्यौहार या किसी अवसर विशेष पर शुभकामनायें देना, जैसी सामान्य व्यावहारिकता उसके दिल में हमारा गहरा स्थान बनाते हुए हमारे ‘सर्व सम्मान - सर्व उत्थान‘ के ध्येय को साकार करती है। ग्राहक हमसे मान सम्मान पाकर हमारे व्यवसाय वृद्धि के लिये एक बेहतरीन ‘ब्रांड एम्बेसडर‘ साबित होता है, जिसके सहयोग से आपका बहुत सारा कार्य सहजता से निपट जाता है। एक सफल बैंकर इसे आदत के रूप में अपनाकर विरासत के रूप में अपने जूनियर्स को सौंपता है।

साथियो, त्यौहारों के दिन हैं मेरा आपसे आग्रह है कि अपने परिसर में स्वच्छता का विशेष ध्यान रखते हुए शाखा की अच्छे से सफाई करवायें, ‘कम व्यय - अधिक भव्य‘ के सिद्धान्त पर हल्की-फुल्की सजावट कर परिसर को आकर्षक रूप दें। स्वच्छता से तन मन पर सकारात्मक प्रभाव पड़ने के साथ-साथ ग्राहकों के बीच भी अच्छा संदेश जाता है। आप साफ सुथरी सुसज्जित शाखा के छायाचित्र हमसे शेयर कर सकते हैं, जिन्हें बैंक के विभिन्न मंचों पर यथोचित स्थान दिया जायेगा।

प्रिय साथियो, हम सबके लिये हमारा कार्य ही हमारी पूजा है। हमारे आंकड़े हमारी कार्यशैली एवं मेहनत का दर्पण हैं। अतः जरूरी है कि हमें जिन उत्तरदायित्वों की पूर्ति के लिये तैनात किया गया है हम उन्हें समझते हुए पूरा करने को तत्पर रहें। हमारे बड़े लक्ष्य हमारे भीतर छिपी असीम शक्ति, अनन्त ऊर्जा को बाहर लाने का माध्यम बनते हैं। हमारे दृढ़ संकल्प और उनकी प्राप्ति की दिशा में बढ़े हमारे सघन प्रयास हमें ऊँचाइयों के शिखर प्रदान करते हैं। मैं अपनी पूरी एसएचजीबी टीम से यह अपेक्षा करता हूँ कि प्रत्येक स्टाफ सदस्य पूरी लगन एवं निष्ठा से कार्य करते हुए अपने बैंक को गौरवान्वित होने में अपनी अहम् भूमिका निभायेगा। 

‘म्हारी लाडो’ योजना बेटियों के प्रति हमारा स्नेह है जिसका सहभागी हमें आम जन को बनाना है। माँ दुर्गा हम सब पर अपने आशीष बनाये रखें इसी मंगलकामना के साथ।

                                                                                                                                                                                           आपका शुभाकांक्षी,

 

                                                                                                                                                                                            अरूण कुमार नन्दा

 

                                                                               ‘सर्व सम्मान - सर्व उत्थान‘

Copyright@2013. All rights Reserved.